BilaspurCHHATTISGARHCRIMEKORBARaipur

पुलिस कस्टडी से फरार राहुल भिलाई में गिरफ्तार

0 आरोपी को गिरफ़्तारी से बचाने सक्रिय रहा मसीह,पर उसकी नहीं चली

कोरबा। पुलिस कस्टडी से फरार हुआ लूटपाट का आरोपी भिलाई में गिरफ्तार कर लिया गया। पिछले दिनों राहुल चौहान पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल रवाना किया गया। जेल पहुंचने से पूर्व ही राहुल चौहान पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। उसके विरुद्ध थाना सिविल लाइन रामपुर में धारा 224 भादवि के तहत जुर्म दर्ज कर पुनः गिरफ्तार करने के लिए पुलिस ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया और अंतत: उसे भिलाई से गिरफ्तार कर लिया गया।

राहुल चौहान को कस्टडी से फरार हो जाने को पुलिस ने प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया और उन सभी सूत्रों की तलाश शुरू हो गई जिनके जरिए राहुल तक पहुंचा जा सकता था। आधुनिक सुविधाओं के सहारे पुलिस अंततः भिलाई के उस मकान तक पहुंच ही गई जहां राहुल छिपा था। रिश्तेदार के घर में रह रहे राहुल को उन्ही नगर सैनिक राजेश दुबे और अन्य पुलिसकर्मियों ने गिरफ्तार किया जिनकी कस्टडी से राहुल फरार हुआ था। इस आरोपी को पुलिस भिलाई से कोरबा ले आई और उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से कड़ी सुरक्षा के बीच उसे जेल ले जाया गया और दाखिल कर दिया गया।
गौरतलब है की राहुल चौहान, अर्जुन यादव और विजय कंवर को मानिकपुर चौकी पुलिस ने लूटपाट करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। तीनों को अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में जेल दाखिल करने का निर्देश मिला था ।तीनों आरोपियों को पुलिसकर्मी संजय साहू, रतन राठौर और राजेश दुबे जेल लेकर गए, जहां से मौका पाकर राहुल चौहान फरार हो गया था। लूटपाट के आरोपी के फरार होने की सूचना मिलने पर एसपी जितेंद्र शुक्ला ने कठोर रुख अपनाया और अपने अधीनस्थों को आरोपी को कहीं से भी खोज कर पुनः गिरफ्तार करने का निर्देश दिया। और फिर तीन दिन की मशक्कत के बाद आरोपी राहुल चौहान भिलाई से गिरफ्तार कर लिया गया।
ज्ञात रहे 26 अगस्त 2023 की रात लगभग 10 बजे राहुल चौहान और उसके लगभग एक दर्जन साथियों ने मिलकर युवा पत्रकार उमेश यादव पर प्राण घातक हमला करते हुए उनकी गाड़ी में तोड़फोड़ किया और सोने की चेन, 3 मोबाइल व लगभग डेढ़ लाख रुपए लूट ले गए। इस मामले में राखड़ परिवहन कर रही ब्लैक स्मिथ नामक कंपनी की भूमिका संदिग्ध रही। इस कंपनी का एक कथित अधिकारी मसीह लगातार आरोपियों के संपर्क में रहा। इसका प्रयास था कि लूटपाट के आरोपी को गिरफ्तार न किया जाए बल्कि आपस में समझौता हो जाए किंतु इसे सफलता नहीं मिली और एसपी जितेंद्र शुक्ला के कड़े निर्देश के बाद मानिकपुर चौकी पुलिस द्वारा तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। इन तीनों ने पुलिस को लूटपाट के मामले में अपने अन्य साथियों के विषय में क्या जानकारी दिया है इसके बारे में अभी तक पुलिस कुछ भी बताने से परहेज कर रही है। हां, यह जरूर बताया जा रहा है की राजेश चौहान के अन्य साथियों की भी तलाश की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button