BilaspurCHHATTISGARHGaurella-Pendra-MarwahiJanjgir-ChampaKORBAKoriyaRaigarhRaipurSaktiSurajpurSurguja

वन भूमि पर मनरेगा का डबरी निर्माण, काटे दर्जनों पेड़, विभाग लीपापोती में जुटा…!

कोरबा-पाली। विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों की लापरवाही से एक पंचायत द्वारा वन विभाग की जमीन पर मनरेगा के तहत लाखों के डबरी का निर्माण करा दिया। जिस निर्माण कार्य के लिए साल के दर्जनों पेड़ काट दिए गए। वन अमला को जानकारी होने पर काटे गए पेड़ो को जब्त तो कर लिया लेकिन कार्रवाई के बजाय मामले में लीपापोती करने में जुटे हैं।

पाली जनपद पंचायत के केराझरिया ग्राम पंचायत में मनरेगा के तहत स्वीकृत लाखो के डबरी का वन विभाग की जमीन पर निर्माण कराए जाने का मामला सामने आया है।स्थानीय सूत्र ने बताया कि संबंधित विभाग के अधिकारी- कर्मचारियों के अपने कार्यों के प्रति निष्क्रियता के चलते मनरेगा के डबरी निर्माण कार्य मे दर्जनों साल के पेड़ों को बेदर्दी से काट दिया गया।

वन परिक्षेत्र के पाली सर्किल अंतर्गत मुनगाडीह बीट में ग्राम केराझरिया मुख्य बस्ती के अंतिम छोर में मुक्तिधाम के पास साल के घने जंगल मे उक्त निर्माण को अंजाम दिया गया। नियमतः वन विभाग की जमीन पर ग्राम पंचायत द्वारा बिना अनुमति किसी भी तरह का निर्माण कार्य नही कराया जा सकता। लेकिन पंचायत ने ग्राम में गठित वन समिति के सदस्यों से सांठगांठ कर वन भूमि के दर्जनों पेड़ काट डबरी का निर्माण कराया। इस बाबत जब विभाग को जानकारी हुई तब अधिकारी- कर्मचारी मौके पर पहुँचे और धराशायी पेड़ो को जब्ती बनाया। किन्तु अब विभाग मामले में कार्रवाई करने के बजाय लीपापोती करने में जुटा हुआ है। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि कर्तव्य की सिर्फ खानापूर्ति कर रहे हैं इसलिए वन संपदा को नुकसान पहुँचाने वाले बैखौफ होकर कार्य कर रहे है।

0 शिकायत पर पहुंचते नहीं

ग्रामीणों का कहना हैं कि आसपास जंगलों में साल वृक्षों की जमकर कटाई की जा रही है। जिसकी मौखिक शिकायत के बाद भी अधिकारी- कर्मचारी मौके पर नही पहुँचते और न ही लकड़ी माफियाओं के विरुद्ध किसी प्रकार की कार्रवाई अमल में लायी जाती है। इस सम्बंध में कटघोरा डीएफओ कुमार निशांत से चर्चा करने उनके मोबाइल नम्बर क्रमांक- 7906967368 पर सम्पर्क किया गया, लगातार दो बार घण्टी जाती रही किन्तु उन्होंने फोन रिसीव नही किया जिसके कारण उनसे बाते नही हो पायी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button