BilaspurCHHATTISGARHKORBANATIONALRaipurTOP STORY

KORBA:नान में भर्राशाही,फर्जी काम और वसूली का खुलासा

0 शिकायत और खुलासे पर कार्रवाई का इंतजार
कोरबा। खाद्यानों के भंडारण और वितरण से जुड़े नागरिक आपूर्ति निगम(नान) के कामकाज को लेकर गंभीर आरोप लगे हैं वहीं दूसरी तरफ नान में आने वाले ट्रक चालकों से अवैध वसूली का भी खुलासा हुआ है।

सिविल सप्लाई कॉरपोरेशन (नान) कोरबा के द्वारा फर्जी ट्रक चालान काटने एवं शासकीय खाद्यान्न की हेरा फेरी करने की शिकायत हुई है। नान की जिला प्रबंधक के संरक्षण में विगत सालों से नान के गोदाम से पीडीएस दुकानों में भेजे जाने वाले खाद्यानों की अफरा तफरी योजनाबद्ध तरीके से किया जा रहा है, जिसमें वेयर हाउस कॉरपोरेशन कोरबा की भी संलिप्तता रहती है, और कई बार खाद्यान्नों की आफरा तफरी प्रमाणित भी हुई है। नागरिक आपूर्ति निगम के द्वारा भ्रष्टाचार की सारी सीमाएं तोड़ते हुए कोरबा जिले के कई नान गोदाम से फर्जी ट्रक चालान भी काटे गए हैं। ट्रक चालान को देखने पर प्रथम दृष्टिया ही ट्रक चालान फर्जी होने का एहसास हो जाता है। लोक जनशक्ति पार्टी (रा.)के जिलाध्यक्ष ने कलेक्टर को शिकायत प्रेषित कर निवेदन किया है कि नागरिक आपूर्ति निगम व अन्य अधिकारियों/कर्मचारी के द्वारा शासकीय खाद्यान्न की अफ़रा तफरी के नीयत से काटे गए फर्जी ट्रक चालान की जांच करते हुए फर्जीबाड़े में शामिल समस्त अधिकारियों/ कर्मचारियों पर एफआईआर दर्ज करवाने की कृपा करें।
0 नान गोदाम में ट्रक ड्राइवरों से अवैध वसूली

इसी तरह नान में अवैध वसूली का भी गोरखधंधा चल रहा है जिसकी जानकारी यहाँ के जिम्मेदारों को न हो,ऐसा संभव नहीं। नान गोदाम में नमक की बोरी खाली करने आए ट्रक क्रमांक CG12-AR-5470 के ड्राइवर से काँटाघर में तौल के नाम पर 150 रुपये की जगह 250 रुपये मांगा गया। रकम न देने पर फूल सिंह चौहान ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर चालकों से अभद्रता और विवाद किया। इसी तरह बोरिया उतारने के नाम पर भी हमालों ने अतिरिक्त राशि 500 रुपये की मांग की। यह तो एक ट्रक चालक की बात सामने आई है,और यह तो सैकड़ों ट्रक आते हैं जिनसे अवैध वसूली का आंकड़ा आंकलित किया जा सकता है। गोदाम में चना, शक्कर, नमक एवं चावल खाली करने के नाम पर मनमाना वसूली से ड्राइवर द्वारा मना करने पर गोदाम में स्थित सुपरवाइजर द्वारा भी अभद्र व्यवहार किया जाता है। अनेक लोगों ने अवैध वसूली को सिस्टम का हिस्सा बना दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button